1 2 3 4 5 6

साहित्य अकादमी, मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद्, भोपाल

प्रमुख प्रकाषित पुस्तकें -

+ कविता

  • वृक्ष की षिराओं में- श्री प्रमोद त्रिवेदी
  • नरक को कभी शर्म नहीं आती-   श्री हरीष पाठक
  • कच्चे घर के लिए- श्री राजकुमार कुंभज
  • चयनिका- श्री रामेष्वर शुक्ल ष्अंचल्य
  • जारी है लेकिन यात्राएँ- श्री विनोद निगम
  • समुद्र के बारे में- श्री भगवत रावत
  • एक तीली बची रहेगी- श्री प्रतापराव कदम
  • कविता में सुबह- श्री रामविलास शर्मा
  • अंगारों की सदियाँ- डॉ. गौरीषंकर लहरी
  • खिडकियों पर लगे कागज- श्री हरिषंकर अग्रवाल
  • सिर्फ आँख भर रोषनी- शषि शर्मा
  • जो कुछ भी घट रहा है दुनिया में- श्री नासिर अहमद सिंकदर
  • कालचित्र- श्री प्रयास जोषी
  • यहाँ इस शहर में- श्री भानुप्रकाष

+ कहानी

  • औपचापारिक अंतरूकरण - श्री राजेन्द्र कुमार मिश्र
  • उन्नीस साल का लड़का- श्री शषांक
  • सरेआम- श्री हरीष पाठक
  • जो सहमत हैं सुने-यषवंत व्यास
  • जंग- ए. असफल
  • जुमेराती मियाँ-श्री विनोद मिश्र

+ नाटक

  • काठमहल- प्रभात कुमार भट्टाचार्य
  • चिंदी मास्टर- राजेष जैन

+ भाषण-आलेख-निबंध संग्रह

  • भारतीय भाषाओं में कृश्णकाव्य (प्रथम खंड)- सं. डॉ. भागीरथ मिश्र
  • भारतीय भाषाओं में कृश्णकाव्य (द्वितीय खंड)-सं. डॉ. विनयमोहन शर्मा
  • पानी पानी पानी- कमलाप्रसाद चैरसिया
  • नाट्यकला मीमांसा- सेठ गोविन्द दास
  • अनुष्टुप- सं. डॉ. प्रभाकर क्षोत्रिय
  • अक्षर अनन्य-सं. श्री अंबाप्रसाद श्रीवास्तव
  • रीवा राज्य का इतिहास-पं. गुरुरामप्यारे अग्रिहोत्री
  • निरंजनी संप्रदाय के हिन्दी कवि- डॉ. सावित्री शुक्ल
  • प्रेमचंद्र आज- सं. प्रभाकर क्षोत्रिय
  • मध्यकालीन हिन्दी साहित्य और तुलसीदास-डॉ. भागीरथ मिश्र
  • समय में कविता- सं. डॉ. प्रभाकर क्षोत्रिय
  • भारतीय संस्कृति में जैन धर्म का योगदान-डॉ. हीरालाल जैन
  • म.प्र. के संगीतज्ञ-प्यारेलाल श्रीमाल
  • अन्वय-सं. डॉ. प्रभाकर क्षोत्रिय
  • पंडिल बालकृश्ण शर्मा ष्नवीन्य-सं. डॉ. प्रेम भारती
  • महाकवि केषव- डॉ. बष्जेष द्विवेदी
  • कामताप्रसाद गुरु- पं. भवानी प्रसाद तिवारी
  • भारतीय दर्षनों का समन्वय-डॉ. आदित्यनाथ झा
  • कला के प्राणबुद्ध-श्री जगदीष चंद्र
  • बुंदेलखंडी लोकगीत-पं. षिवसहाय चतुर्वेदी
  • भगवान महावीर स्वामी का बुनियादी चिंतन- डॉ. जयकुमार जलज
  • निमाड़ी साहित्य का इतिहास- डॉ. श्रीराम परिहार
  • मालवी साहित्य का इतिहास-श्री श्याम सुंदर निगम
  • बघेली साहित्य का इतिहास-श्री आर्या प्रसाद त्रिपाठी
  • बुन्देली साहित्य का इतिहास-डॉ. आरती दुबे